Bharatiyata Ki Ore

Author: Pavan K Varma
Publisher: Penguin UK
ISBN: 9351188175
Size: 13.15 MB
Format: PDF, Kindle
View: 2758

Download Read Online

Bharatiyata Ki Ore. What are the consequences of Empire? Do they ever fade? In this follow-up to his bestselling book Being Indian, Pavan K. Varma takes a long hard look at our cultural psyche, sixty years after India’s political liberation from Western colonial masters. Examining modern history, contemporary events and personal experience, he demonstrates, with passion, insight and impeccable logic, why India, and other formerly subject nations, can never truly be free—and certainly not in a position to assume global leadership—unless they reclaim their cultural identity. Note: This book is in the Hindi language and has been made available for the Kindle, Kindle Fire HD, Kindle Paperwhite, iPhone and iPad, and for iOS, Windows Phone and Android devices.

Bharatiyata Ki Ore

Author: Pawan Kumar Verma
Publisher: Prabhat Prakashan
ISBN: 9350488582
Size: 46.77 MB
Format: PDF, Docs
View: 2223

Download Read Online

Bharatiyata Ki Ore. उभरती हुई विश्‍व-ताकत होने के दावों के बावजूद सच्चाई यही है कि हम एंग्लो-सेक्शन दुनिया की आलोचना और तारीफ, दोनों के प्रति बेहद संवेदनशील हैं और उसकी स्वीकृति पाने के लिए लालायित हैं। आजाद भारत के गृह मंत्रालय के नॉर्थ ब्लॉक स्थित मुख्यालय के बाहर औपनिवेशिक शासकों द्वारा अंग्रेजी में लिखी इन पंक्‍त‌ियों को कोई भी पढ़ सकता है— Liberty will not descend to a people, a people must raise themselves to liberty. महज कुछ दशक पहले तक विश्व भिन्न-भिन्न साम्राज्यों में बँटा हुआ था। बीसवीं सदी के मध्य में इन साम्राज्यों से स्वाधीन देशों का जन्म हुआ, पर उनकी राजनीतिक स्वतंत्रता के बावजूद भारत जैसे उपनिवेशवाद के शिकार रहे देशों के लिए सांस्कृतिक स्वतंत्रता एक स्वप्न जैसी रह गई है। प्रख्यात लेखक पवन वर्मा ने इस महत्त्वपूर्ण पुस्तक में भारतीयों की मानसिक बनावट पर साम्राज्य के प्रभावों का विश्‍लेषण किया है। आधुनिक भारतीय इतिहास, समकालीन घटनाओं और निजी अनुभवों के आधार पर वे इस बात की पड़ताल करते हैं कि किस प्रकार उपनिवेशवाद से जुड़ी चीजों का असर आज भी हमारी रोजमर्रा की जिंदगी पर छाया हुआ है। पूरे भावावेग, अंतर्दृष्‍ट‌ि और अकाट्य तर्कशक्ति के साथ पवन वर्मा दिखाते हैं कि भारत और गुलाम रह चुके अन्य देश सही मायनों में तभी स्वतंत्र हो पाएँगे और तभी विश्‍व का नेतृत्व करने की हालत में हो पाएँगे, जब तक कि वे अपनी सांस्कृतिक पहचान को फिर से हासिल नहीं कर लेते।

How Others Look At The R S S

Author: Keshav Baliram Hedgewar
Publisher:
ISBN:
Size: 59.10 MB
Format: PDF, ePub, Docs
View: 6746

Download Read Online

How Others Look At The R S S . Birth centennial volume for Keshav Baliram Hedgewar, 1889-1940, founder of the Rashtriya Swayam Sevak Sangh; comprises articles on the organization.

A New Era In The Indian Polity

Author: G. N. S. Raghavan
Publisher: Gyan Books
ISBN:
Size: 28.89 MB
Format: PDF, Docs
View: 5499

Download Read Online

A New Era In The Indian Polity. The book portrays former PM of India, Siri Atal Bihari Vajpayee in full sagacity and celebrates in Indian politics as, a revival of these political values, which festered peoples, aspiration during freedom struggle and were needed after independence to the devastated and poor sail of India. With features like BJP's rise with him, BJP,s vision of social equality and harmony and non-appeasement, economics of mutual sharing, Autyodaya and swadeshi. A benchmark.